NewsLiVE: पढ़ें- शुक्रवार शाम की 5 बड़ी खबरें

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (फाइल फोटो)

1. कोरोना: सोनिया ने की कांग्रेस नेताओं से बात, गरीबों की मदद पर जताया आभार
कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शुक्रवार को सभी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्षों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर बातचीत की. इस दौरान कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने कहा कि देश व हम सब के लिए यह बहुत संकट का समय है और इन परिस्थितियों में ऐसी मीटिंग पहली बार हो रही है. मैं आप सब से कुछ बातें कहना चाहती हूं और आप की बातों, आपके सुझावों को सुनना भी चाहती हूं.
2. हरियाणा में कोरोना मरीजों का इलाज करने वाले मेडिकल स्टाफ को मिलेगी दोगुनी सैलरी
ऐसे वक्त में जब राज्य सरकारें वेतन में कटौती पर विचार कर रही हैं, हरियाणा सरकार ने फ्रंटलाइन मेडिकल हेल्थ वर्कर्स के लिए अच्छा कदम उठाया है. हरियाणा में जिन अस्पतालों में Covid-19 मरीज भर्तीं हैं, वहां आइसोलेशन वॉर्ड्स में काम करने वाले मेडिकल स्टाफ के लिए राज्य सरकार ने वेतन दोगुना करने का ऐलान किया है. इनमें डॉक्टर्स, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ और हेल्पर शामिल हैं.
3. कोरोना का कहर: इंदौर में दूसरे डॉक्टर की मौत, अब तक 27 लोगों की गई जान
मध्य प्रदेश के इंदौर में कोरोना वायरस की चपेट में आने से एक और डॉक्टर की मौत हो गई. दो दिन में यह दूसरे डॉक्टर की मौत हुई है. वहीं इंदौर शहर में कोरोना मरीजों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. कोरोना मरीज डॉक्टर की मौत अरविंदो हॉस्पिटल में हुई. डॉक्टर ओम प्रकाश चौहान 169 ब्रह्मबाग कॉलोनी में रहते थे. उनकी आयु 65 वर्ष बताई जा रही है. वे बीते 7 दिनों से बीमार थे. दो दिन पहले उन्हें इंदौर के अरविंदो हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां कोरोना के अब तक 11 मरीज ठीक हुए हैं.
4. 16 हजार टेस्ट में सिर्फ 320 पॉजिटिव, देश में कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं: स्वास्थ्य मंत्रालय
महामारी कोरोना वायरस के मामले जिस तरह से हर दिन बढ़ रहे हैं उसके बाद से लोगों में डर है. खौफ इस बात का है कि क्या कोरोना वायरस देश में कम्युनिटी ट्रांसमिशन का रूप ले चुका है. लोगों के डर को स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को दूर करने की कोशिश की. स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि देश में अभी तक कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं है, घबराने की जरूरत नहीं है, लेकिन जागरूक और सतर्क रहें.
5. अभी पूरी तरह नहीं खुला है हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का निर्यात! निजी कंपनियों को नहीं दी जाएगी दवा
कोरोना के उपचार में कारगर माने जा रहे मलेरिया की दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन को सिर्फ सरकारों को दिया जाएगा और इसे निजी कंपनियों को नहीं बेचा जाएगा. सरकार का कहना है कि यह उत्पाद अभी भी निर्यात के लिए प्रति​बंधित श्रेणी में आता है. न्यूज एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से यह खबर दी है कि किसी निजी कंपनी द्वारा दूसरे देश की किसी कंपनी को इसका निर्यात नहीं किया जा सकता.

Post a Comment

0 Comments